Story of Alexander Selcraig | Lived Alone In An Island For 4 Years

You are currently viewing Story of Alexander Selcraig | Lived Alone In An Island For 4 Years
Story of Alexander Selcraig
Story of Alexander Selcraig

Skip to Hindi Version

This is a very famous story on which a popular book is also written, Robinson Crusoe, Daniel Defoe.

Alexander Selcraig was born in 1676; later he changed his surname from Selcraig to Selkirk because he could not get along with his family. One day he left for sailing.

While shipping, he had to face many problems in the sea. His crew was suffering from hunger and many diseases. The ship’s captain was dead and was replaced by lieutenant Thomas Stradling. No one knew him much.

Stradling and Alexander did not get along well, and Alexander did not look good as a captain in Stradling’s point of view.

The fight between them began when the ship was briefly stopped on an uninhabited island in the South Pacific Ocean. Selkirk took off from the boat and stopped on the shore, thinking that the rest of the crew would follow him and eventually Stradling would give up.


Hindi Version


यह एक बहुत प्रसिद्ध कहानी है जिस पर एक लोकप्रिय पुस्तक भी लिखी गई है जिसका नाम रॉबिन्सन क्रूसो है और उनके लेखक डैनियल डिफो है।

Alexander Selcraig का जन्म 1676 में हुआ था; आगे चलकर उन्होंने अपना surname Selcraig से Selkirk कर लिया क्योंकि वह अपने परिवार के साथ नहीं रहते थे और आपस मे बनती भी नहीं थी।

एक दिन वो जहाज़ से सैर के लिए जा रहे थे, साथ मे उनके साथ crew भी था। शिपिंग के दौरान उन्हें समुद्र में कई समस्याओं का सामना करना पड़ा। उनका crew भूख और कई बीमारियों से पीड़ित था। जहाज का कप्तान मर चुका था और उसकी जगह Lieutenant Thomas Stradling ने ले ली थी। उसे ज्यादा कोई नहीं जानता था।

Stradling और Alexander की आपस में अच्छी बनती नहीं थी और Alexander Stradling के नज़रिये को से एक कप्तान के रूप में पसंद नहीं करते थे। इसी कारण सैर के दौरान दोनों के बीच लड़ाई हो जाती है।

उनके बीच लड़ाई तब शुरू हुई जब दक्षिण प्रशांत महासागर में एक uninhabited द्वीप पर जहाज को कुछ समय के लिए रोक दिया गया। Alexander नाव से उतर गया और किनारे पर रुक गया, यह सोचकर कि बाकी चालक दल उसका पीछा करेंगे और अंत में Stradling हार मान लेगा।

लेकिन खेल उल्टा हो गया, Stradling ने Alexander को बुरा भला कहा और उसे द्वीप पर अकेला छोड़ दिया और बाकी को लेकर चला गया।

द्वीप पर अकेले रहते हुए, Alexander झींगा मछली और रेंगफिश खाकर जिंदा रहा। उसने एक झोंपड़ी, कुछ हथियार और कपड़े बनाए। वह जोर-जोर से बाइबल पढ़ता था और गाने गाता था ताकि वह अकेले बोर न हो।

चार साल बाद बाद, उन्हें English privateer, Woods Rogers नामक व्यक्ति ने बचा लिया।


If you loved reading this Inspirational story of Alexander Selkirk, then please share with your friends and also drop your comments in below box.

Read Also:

Leave a Reply