Story of Dereck Redmon | Lost By Race But Won By Willpower

You are currently viewing Story of Dereck Redmon | Lost By Race But Won By Willpower
tory of Dereck Redmon
tory of Dereck Redmon

Skip to Hindi Version

This is a short but very inspirational Story of Dereck Redmon.

Inspirational story of Dereck Redmon | Dereck Redmon was ready for his race, in the 1992 Olympics in Barcelona. This was the Semi-Final race (if you are also from sports, then you can understand how hard it takes to get from start to semi-final).

Dereck Redmon Marathon 1992 Olympics
Illustration of Dereck Redmon in Olympics 1992

The race started, and everything was going well. But, during the final round, Dereck Redmon suffered a muscle strain in one leg (debilitating hamstring injury). He had to sit on the track.

The race was finished, and his Olympic dream was once gain becomes a dream. All the other participants had completed the race; only Dereck Redmon was left.

In such a situation, if someone else was there, he would have gone home crying because he had already lost the race, and now there was no benefit in the running.

Dereck Redmon with his father
Dereck Redmon with his father in 1992 Olympics

But Dereck Redmon did not give up; he got up and started running again. Because he had to complete the race totally. He was running, limping. Pain and tears could be clearly seen in his eyes.

Meanwhile, his father comes running from behind and supports Dereck Redmon and completes the race.

His entire video was recorded and it is still a very famous motivational video of Dereck Redmon on the internet.

Source: YouTube/Olympics

What do we learn from this story?


Competition is not just about winning. There is a lot to be seen in it. How much confidence do you have, how do you react after losing.


Hindi Version


यह डेरेक रेडमन की एक छोटी लेकिन बहुत ही प्रेरणादायक कहानी है।

Derek Redmon1992 में बार्सिलोना में ओलंपिक में भाग लेकर अपनी दौड़ के लिए तैयार थे। ये थी सेमी-फ़ाइनल की रेस (अगर आप भी स्पोर्ट्स से हैं तो समझ सकते हैं कि शुरुआत से लेकर सेमीफ़ाइनल तक पहुँचने में कितनी मेहनत लगती है)।

दौड़ शुरू हुई, और सब कुछ ठीक चल रहा था। लेकिन, फाइनल राउंड के दौरान, डेरेक रेडमन को एक पैर की मांसपेशियों में खिंचाव (कमजोर करने वाली हैमस्ट्रिंग की चोट) का सामना करना पड़ा। जिसके कारण उन्हे race track पर ही बैठना पड़ा।

दौड़ समाप्त हो गई, और उनका ओलंपिक का सपना टूट गया। अन्य सभी प्रतिभागियों ने दौड़ पूरी कर ली थी; केवल डेरेक रेडमन बच गए थे।

इस situation में अगर कोई और होता तो वह रोता हुआ घर चला जाता क्योंकि वह पहले ही रेस हार चुके थे और अब दौड़ने में कोई फायदा नहीं था।

लेकिन Derek Redmon ने हार नहीं मानी; वह उठे और फिर से दौड़ने लगे। क्योंकि उन्हे ये दौड़ पूरी करनी थी। वह भागते हुए लंगड़ा रहे थे। उनकी आंखों में दर्द और आंसू साफ देखे जा सकते थे।

इस बीच, उनके पिता पीछे से दौड़ते हुए आते हैं और डेरेक रेडमन का समर्थन करते हैं और दौड़ को पूरी करते हैं।


हम इस कहानी से क्या सीखते हैं?


प्रतियोगिता मे केवल जीतना नहीं होता। इसमें देखने के लिए बहुत कुछ है। आप में कितना आत्मविश्वास है, हारने के बाद आप कैसी प्रतिक्रिया देते हैं। आपके लिए जीत कितनी महत्वपूर्ण है? तब जाकर पता चलता है आप एक अच्छे sportsman है या नहीं।

Derek Redmon भले ही रेस हार गए हों, लेकिन रेस को पूरा करने की उनकी जिद ने सभी का दिल जीत लिया।

Derek Redmon को उनके कभी हार न मानने वाले attitude के लिए सलाम।


If you loved reading this inspirational story of Derek Redmon, then please share with your friends and also drop your comments in below box.

Read Also:

Leave a Reply